vartabook.com : varta.tv

.

Facebook Par ugla huaa padhe - Charchamanch me

.

गुरुवार, 24 नवंबर 2011

Abhay Sharma


अन्ना की अभिव्यक्ति का तरीका आम जन की कुंठा, व्यवस्था के प्रति क्षोभ व निराशा को प्रकट करता है !! इसे अन्यथा न समझे !! नेता लोग कृपा कर अब से अनर्गल बयानबाजी से बचे !! समय अब आत्मचिंतन का है !!! बहुत किया अब बस करो !! चुप रहो !!
---------------------------------------------------------------
गाँव में सूखा पड़ा है चुप रहो
द्वार पर भूखा पड़ा है चुप रहो
अनाज वर्षा में सड़ा है चुप रहो
भूख बेकारी से आदमी लड़ा है चुप रहो
पाँव धरती पर नहीं पड़ते हैं अब
रंग सत्ता का चढ़ा है अब बस चुप रहो !!!

0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें

Read by Name