vartabook.com : varta.tv

.

Facebook Par ugla huaa padhe - Charchamanch me

.

सोमवार, 5 अगस्त 2013

sangeeta singh tomar on facebook



जरुर शेयर कीजिये!!
वृन्दावन के एक महान संत श्री हनुमान
दास जी,
आयु 170 वर्ष से अधिक .....
आप खुद देखे....
ये है संसार के सबसे अधिक आयु के
व्यक्ति पर भारत सरकार को घोटालो से
फुर्सत हो तो देश पर ध्यान देगी,
चाइना वाले अपने 115 या 120 साल उम्र
के टुच्चे से लोगो को सबसे अधिक आयु के
व्यक्ति बता देती है,
श्री हनुमान दास जी ने समाज कल्याण के
लिए बहुत से कार्य किये , गोशालाए
भी शुरू करवाई , जिनमे १००० से अधिक
गायो की सेवा की जाती है |


Photo: जरुर शेयर कीजिये!!
वृन्दावन के एक महान संत श्री हनुमान
दास जी,
आयु 170 वर्ष से अधिक .....
आप खुद देखे....
ये है संसार के सबसे अधिक आयु के
व्यक्ति पर भारत सरकार को घोटालो से
फुर्सत हो तो देश पर ध्यान देगी,
चाइना वाले अपने 115 या 120 साल उम्र
के टुच्चे से लोगो को सबसे अधिक आयु के
व्यक्ति बता देती है,
श्री हनुमान दास जी ने समाज कल्याण के
लिए बहुत से कार्य किये , गोशालाए
भी शुरू करवाई , जिनमे १००० से अधिक
गायो की सेवा की जाती है |

 http://noticiasvaishnavasemportugues.blogspot.in/2013/05/hanuman-das-baba-cerca-de-180-anos.html?m=1

 http://raganugabhaktibabajis.blogspot.in/?m=1

1 टिप्पणियाँ:

  • uma shankar says:
    7 नवंबर 2015 को 12:34 am

    आयु का १७० वर्ष या ऐसा कुछ और होना धर्म की नहीं परमात्मा की कृपा है. आयु के नाते श्री हनुमान दस जी महाराज को प्रणाम. परन्तु आयु का अधिक होना संतत्व का द्योतक हो आवश्यक नहीं है; और हम सरकार पर इसके लिए निर्भर न होकर स्वयं कुछ करें जिससे ये संत स्वस्थ रह सकें और उनको अधिक प्रेम और प्रोत्साहन मिले. हम बहुत से क्षेत्रों में सरकार से भी आगे हो सकते हैं; आप यदि कुछ अच्छा सोचते हैं तो सरकार की और न देखें आगे बढ़ें मैं भी आपका साथ देने को तत्पर हूँ. ऐसे और लोग भी आएँगे और बात बन जाएगी.
    संत आयु और धर्म से ऊपर होते हैं. इसलिए धर्म की बातें इतनी आम न बनाएं की छोटी छोटी बातों पर धर्म आड़े आ जाए. धर्म बहुत व्यक्तिगत है और बहुमूल्य भी. धर्म को लाभकारी रहने दें साम्प्रदायिकता वातावरण तो बना ही हुआ है इसे शांत करें. मेरी बात को राजनीतिक चश्मे से न पढ़ें तो आनंद आएगा. आएं हाथ मिलाएं और कुछ ऐसा करें जिससे प्रेम बढे, मुस्कराहट बढे और आनंद आए. मेरा देश महान.

एक टिप्पणी भेजें

Read by Name